रविवार, 23 फ़रवरी 2014

इस गांव में जमीन उगलती है आग!



राजगढ़। मध्यप्रदेश में एक स्कूल में खोदे जा रहे ट्यूबवेल में से रात करीब एक बजे पानी की जगह आग निकलने लगी। यह देख सभी लोग आश्चर्यचकित रह गए और देखते ही देखते लोगों का जमावड़ा लग गया। जानकारी लगने के बाद खिलचीपुर टीआई एलडी वैष्णव मौके पर पहुंचे। उन्होंने ग्रामीणों को जगह से दूर रहने के लिए कहा। हालांकि बाद में ग्रामीणों ने ट्यूबवेल को रेत और टाट पट्टी डाल कर बंद कर दिया। इसके बाद भी करीब तीन से चार घंटे तक लगातार आग की लपटें उठती रहीं।
7-8 फीट ऊंची गई लपटें खिलचीपुर से करीब 10 किमी दूर स्थित जैतपुरा गांव में बुधवार रात एक स्कूल में ट्यूबवेल खनन किया जा रहा था। इसमें से अचानक आग की लपटें उठने लगीं।
आग की लपटें करीब सात से आठ फीट तक ऊंची जा रही थीं। इन लपटों को देखने के लिए रात के समय ही दर्जनों लोग एकत्रित हो गए। मामले की जानकारी प्रशासन को दी गई। जिसके बाद पुलिस ने मौके पर पहुंचकर ट्यूबवेल को बंद कराया।
दो साल में तीसरी घटना जैतपुरा गांव में ट्यूबवेल से आग निकलने की यह तीसरी घटना है। इससे पहले भी दो बार ट्यूबवेल खनन में आग निकलने का मामला सामने आ चुका है। बार- बार इस तरह की घटनाओं को देखते हुए ग्रामीणों का कहना है कि जैतपुरा में ज्वलनशील पदार्थो के भंडार हो सकते हैं। ग्रामीणों ने मांग की है कि क्षेत्र का सर्वे कराते हुए यहां खुदाई भी की जाए, जिससे मामला स्पष्ट हो सके।
क्या कहते हैं अधिकारी टीआई खिलची पुर एलडी वैष्णव कहते हैं कि सूचना मिलने के बाद वे रात के समय ही गांव में पहुंच गये थे।
ग्रामीणों को समझया गया है। इसके साथ ही ट्यूबवेल के पास जमा भीड़ को वहां से दूर किया।
जैतपुरा गांव मालवा और राजस्थान की सीमा का जोड़ है। इसके कारण यहां भूगर्भीय हलचल होती रहती है।
इससे पहले भी वहां इस तरह की घटना सुनने में आई थी। लेकिन यह कोई बड़ी बात नहीं है। ऐसे स्थानों पर ज्वलनशील के साथ ही जहरीले गैसें भी निकलती है।
हो सकता हैआगे भी ऐसा देखने में आए लेकिन यह घटना लंबे समय नहीं चलेगी।
यदि आपके पास Hindi में कोई article, inspirational story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करनाचाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है:facingverity@gmail.com.पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!
Source – KalpatruExpress News Papper

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें