शनिवार, 8 मार्च 2014

नो स्मोक छुड़ाएगा स्मोकिंग की लत



सिगरेट की लत छुड़ाने के लिए अब एक सॉफ्टवेयर आ गया है। नो स्मोक नाम का यह सॉफ्टवेयर स्मोकिंग की लत से छुटकारा दिलाने में कारगर साबित हो रहा है। इसकी मदद से दिल्ली में अब तक 200 से ज्यादा लोगों को फायदा हो चुका है। इस डिवाइस की खास बात है कि यह ब्रेन में फील गुड का अनुभव बढ़ाता है।
जब इंसान तनाव में होता है तो सिगरेट पीने की तलब होती है। लेकिन डिवाइस शरीर के अंदर बीटा एंडॉर्फिन को बढ़ाता है जो एक तरह का फील गुड हार्मोन है।
जब यह हार्मोन बढ़ता है तो लोग अच्छा अनुभव करते हैं और तनाव में भी सिगरेट नहीं पीते।
आई क्विट स्मोकिंग के निदेशक और मैक्स हॉस्पिटल के डॉ. एसके दास ने बताया कि अब तक स्मोकिंग छुड़ाने के लिए च्यूइंग गम और पैचेज का सहारा लिया जाता है, लेकिन यह कुछ हद तक ही कारगर होता है। इस सॉफ्टवेयर की मदद से 90 प्रतिशत से ज्यादा लोग स्मोकिंग की लत छोड़ने में सफल हुए हैं।
मैनेजिंग डायरेक्टर कुणाल सेखरी ने बताया कि इस तकनीक के पहले स्टेप में दी जाने वाली फ्री सलाह के बाद ही 10 से 15 प्रतिशत लोग स्मोकिंग छोड़ देते हैं।
इलाज के पहले स्टेप में स्मोकिंग छोड़ने की इच्छा रखने वालों का कार्बन मोनोऑक्साइड टेस्ट किया जाता है। इसमें स्मोकिंग का लेवल कितना है, चेन स्मोकर है या नहीं आदि जानकारी ली जाती है।
इसके बाद रिफ्लेक्शन इंस्ट्रमेंट स्कैनिंग इलेक्ट्रो प्लस (आरआईएसई) में मरीज की उम्र, लिंग, स्मोकिंग की आदतें आदि जानकारियों को फीड किया जाता है। पेन जैसे एक डिवाइस जिसके प्वॉइंट गोल्ड के बने होते हैं, की मदद से कान के बाएं 19 और दाएं 18 प्वॉइंट को उद्दीप्त किया जाता है। नशे की लत के कारण ब्रेन के अंदर निकोटिन रिसेप्टर बढ़ जाता है जो दिमाग को सही तरह से काम नहीं करने देता। इसमें निकोटीन रिसेप्टर को उद्दीप्त किया जाता है जिसमें 18 से 100 सेकंड तक का समय लगता है। सोने के बने एक डिवाइस से हल्का इलेक्ट्रिक शॉक दिया जाता है और दिमाग में मौजूद बीटा एंडार्फिन को उच्च स्तर पर पहुंचा दिया जाता है।
यदि आपके पास Hindi में कोई article, inspirational story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करनाचाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है:facingverity@gmail.com.पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!
Source – KalpatruExpress News Papper




 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें